UGC Guidelines on Examinations and Academic Calendar for the Universities in View of COVID-19

UGC Guidelines on Examinations and Academic Calendar for the Universities in View of COVID-19 Guidelines issued in presence of Union HRD Minister

In view of Covid-19 pandemic and subsequent lockdown, the University Grants Commission constituted an Expert Committee to deliberate and make recommendations on the issues related to the Examinations and the Academic Calendar to avoid academic loss and take appropriate measures for the future of students.

The Expert Committee was headed by Prof. R. C. Kuhad, Former Member, UGC and Vice Chancellor, Central University of Haryana, Mahendergarh, Haryana along with other members.

The Commission at its meeting held on 27.4.2020 accepted the Report of the Committee and approved the Guidelines on Examinations and Academic Calendar.

Advertisement

These UGC guidelines on Examinations and Academic Calendar for the Universities in View of COVID-19 Pandemic and Subsequent Lockdown were issued in presence of Union HRD Minister Shri Ramesh Pokhriyal ‘Nishank’ in New Delhi today. Secretary, Higher Education, MHRD Shri Amit Khare and senior officials of the Ministry and UGC were present on the occasion.

The following are the main recommendations in the guidelines issued by UGC today 

1. Intermediate Semester Students: Will be graded based on internal assessment of the present and previous semester. In states where the COVID-19 situation has normalized, there will be exams in the month of July.

2. Terminal Semester Students: exams will be held in the month of July.

Advertisement

3. A COVID-19 cell will be constituted in every university which will be empowered to solve the issues of students related to academic calendar and examinations.

4. A COVID-19 cell in the UGC to be created for faster decision making.

The highlights of the Guidelines are as under:

Guidelines are advisory in nature.

Advertisement

University may chart out its own plan of action taking into consideration the issues pertaining to COVID – 19 Pandemic

Ensure Social Distancing.

EXAMINATIONS

Universities may adopt alternative and simplified modes and methods of examinations to complete the process in shorter period of time .

Advertisement

Universities may adopt efficient and innovative modes of examinations by reducing the time from 3 hours to 2 hours.

Universities may conduct Terminal / Intermediate Semester / Year examinations in offline / online mode, as per their Ordinances/Rules and Regulations, Scheme of Examinations, observing the guidelines of “social distancing” and keeping in view the support system available with them and ensuring fair opportunity to all students.

Terminal semester/ year examinations for PG/ UG courses/ programmes may be conducted by universities as suggested in the academic calendar. The timing of the examination may be considered appropriately by the universities, and examination may be conducted keeping in mind the guidelines of “social distancing”.

For intermediate semester/year students, the universities may conduct examinations,after making a comprehensive assessment of their level of preparedness, residential status of the students, status of COVID-19 pandemic spread in different regions / state and other factors.

Advertisement

In case the situation does not appear to be normal in view of COVID-19, in order to maintain “social distancing”, safety and health of the students, grading of the students could be composite of 50% marks on the basis of the pattern of internal evaluation adopted by the universities and the remaining 50% marks can be awarded on the basis of performance in previous semester only (if available). The internal evaluation can be continuous evaluation, prelims, mid-semester, internal evaluation or whatever name is given for student progression.

In the situations where previous semester or previous year marks are not available, particularly in the first year of annual pattern of examinations, 100% evaluation may be done on the basis of internal assessments.

If the student wishes to improve the grades, he/she may appear in special exams for such subjects during next semester.

This provision for intermediate semester examinations is only for the current academic session (2019-20) in view of COVID-19 pandemic, while maintaining safety and health of all the stakeholders and sanctity and quality of examinations.

Advertisement

Period of lockdown may be treated as ‘deemed to be attended’ by all the students/ research scholars.

Adopt appropriate strategies to facilitate the UG/ PG students pursuing Projects/ Dissertations. Universities may consider to assign review-based/ secondary data-based projects or software-driven projects, instead of laboratory-based experiments or field/ survey-based assignments to these students.

The universities may conduct the practical examinations and Viva-Voce Examinations through Skype or other meeting apps, and in case of intermediate semesters, the practical examinations may be conducted during the ensuing semesters.

The universities may conduct the Ph.D. and M. Phil. Viva -Voce Examinations through Video Conferencing using Google, Skype, Microsoft Technologies or any other reliable and mutually convenient technology.

Advertisement

Extension of six months period to the M.Phil.or Ph.D. students.

Every University shall establish a cell for handling student grievances related to examinations and academic activities during COVID-19 pandemic and notify effectively to the students.

The UGC will establish a Help Line for monitoring student grievances related to examinations and academic activities during COVID-19 pandemic.

ACADEMIC CALENDAR                                                    

Advertisement

The following calendar is suggested for the academic session 2019-2020:

The Academic Calendar is suggestive in nature. The universities may adopt / adapt it after making a comprehensive assessment of their level of preparedness, residential status of the students, status of COVID-19 pandemic spread in their city / region / state and other factors.

Start of Even Semester01.01.2020
Suspension of Classes16.03.2020
Continuation of Teaching-Learning through various modes such as Online Learning / Distance Learning / Social Media (WhatsApp / YouTube) / E-mails / Video Conferencing / Mobile Apps / SWAYAMPRABHA Channels on DTH etc.16.03.2020 to 31.05.2020 
 Finalisation of Dissertation/ Project Work/ Internship Reports/ E-labs/ Completion of Syllabus/ Internal Assessment/ Assignment/ Students Placement Drive etc. 01.06.2020 to 15.06.2020
Summer Vacations#16.06.2020 to 30.06.2020
Conduct of Examinations:Terminal Semester/ YearIntermediate Semester/Year 01.07.2020 to 15.07.202016.07.2020 to 31.07.2020
Evaluation and Declaration of Result:Terminal Semester/ YearIntermediate Semester/ Year 31.07.202014.08.2020

 #– If situation so demands, the universities can have Summer Vacations for 30 days from 01-06-2020 to 30-06-2020. In that case the teaching-learning through various modes can be held up to 15-05-2020 and subsequently Finalization of Dissertation etc. may be completed from 16-05-2020 to 31-05-2020.

2.            The Academic Session 2020-21 may commence from 01.8.2020 for old students and from 01.09.2020 for fresh students.

Advertisement

The following calendar is suggested for the academic session 2020-2021:

Admission Process01.08.2020 to 31.08.2020
Commencement of ClassesStudents of 2nd/ 3rdyearFresh batch (First Semester/Year) 01.08.202001.09.2020
Conduct of Examinations01.01.2021 to 25.01.2021
Commencement of Classes for Even Semester27.01.2021
Dispersal of Classes25.05.2021
Conduct of Examinations26.05.2021 to 25.06.2021
Summer Vacations01.07.2021 to 30.07.2021
Commencement of Next Academic Session02.08.2021

Some General Guidelines

1.            Universities may follow a 6-day week pattern.

2.            Students be given exposure to laboratory assignments/ practical experiments through virtual laboratories, sharing of the recorded visuals of laboratory work and digital resources available for the purpose.

Advertisement

3.            Link provided by MHRD for virtual laboratories to facilitate the students of science/ engineering/ technology streams may also be suitable for such purposes.

4.            Develop virtual classroom and video conferencing facility and all teaching staff should be trained with the use of the technology.

5.            Universities should prepare e-content/e-lab experiments and upload on their websites.

6.            Strengthen the mechanism of mentor-mentee counselling.

Advertisement

7.            Universities may devise a proforma to record the Travel/ Stay history of the staff and students for the period when they were away from the university due to lockdown.

8.            Faculty should be adequately trained for the use of ICT and online teaching tools, so that they complete about 25% of the syllabus through online teaching and 75% syllabus through face to face teaching.

Note

In view of present scenario and future uncertainties

Advertisement

Universities may adopt/ adapt and implement these Guidelines in a transparent manner by making alterations/ additions/ modifications/ amendments to deal with particular situation(s) in the best interest of students, educational institution and the entire education system,

University may adopt alternative modes of admission process, if otherwise legally tenable.

Educational institutions located at places where the Government (Centre/ State) have imposed restrictions on gathering of public, the institutions may plan accordingly.

In any case, the recommendations shall not cause any restrictions on the guidelines/directions issued by the appropriate Government/competent authority.

Advertisement

The report submitted by the Expert Committee constituted by UGC was headed by Prof. R. C. Kuhad, Former Member, UGC, and Vice-Chancellor, Central University of Haryana, Mahendergarh, Haryana to deliberate and make recommendations on the issues related to the Examinations and the Academic Calendar to avoid academic loss and take appropriate measures for the future of students.

Click here for detailed UGC Guidelines on Examinations and Academic Calendar for the Universities in View of COVID-19 and Subsequent Lockdown

हिंदी में

कोविड-19 और उसके बाद लॉकडाउन के मद्देनजर विश्वविद्यालयों के लिए परीक्षा और शैक्षणिक कैलेंडर पर यूजीसी के दिशानिर्देश

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने कोविड-19 और लॉकडाउन के मद्देनजर अकादमिक नुकसान से बचने और छात्रों के भविष्य को लेकर उचित उपाय करने के लिए परीक्षा और शैक्षणिक कैलेंडर से संबंधित मुद्दों पर विचार-विमर्श और सिफारिश करने के लिए एक विशेषज्ञ समिति का गठन किया है।

यूजीसी के पूर्व सदस्य, हरियाणा केंद्रीय विश्वविद्यालय महेंद्रगढ़, हरियाणा के पूर्व कुलपति प्रोफेसर आर.सी. कुहाड़ विशेषज्ञ समिति की अध्यक्षता कर रहे हैं। इस विशेषज्ञ समिति में अन्य सदस्य भी शामिल हैं।

Advertisement

आयोग ने 27.4.2020 को हुई बैठक में समिति की रिपोर्ट को स्वीकार कर लिया और परीक्षा और अकादमिक कैलेंडर पर दिशानिर्देशों को मंजूरी दे दी।

कोविड-19 और लॉकडाउन के मद्देनजर विश्वविद्यालयों के लिए परीक्षा और अकादमिक कैलेंडर पर यूजीसी के इन दिशानिर्देशों को आज नई दिल्ली में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री श्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ की उपस्थिति में जारी किया गया। इस अवसर पर मानव संसाधन विकास मंत्रालय में उच्च शिक्षा सचिव श्री अमित खरे, मंत्रालय और यूजीसी के अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे।

यूजीसी द्वारा आज जारी दिशानिर्देशों में मुख्य सिफारिशें निम्नलिखित हैं

  1. इंटरमीडिएट सेमेस्टर के छात्र: वर्तमान और पिछले सेमेस्टर के आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर इन छात्रों को ग्रेड प्रदान किए जाएंगे। जिन राज्यों में कोविड-19 की स्थिति सामान्य हुई हैवहां जुलाई के महीने में परीक्षा होगी।
  2. टर्मिनल सेमेस्टर के छात्र: जुलाई के महीने में परीक्षा आयोजित की जाएगी।
  3. प्रत्येक विश्वविद्यालय में एक कोविड-19 सेल का गठन किया जाएगा जो शैक्षणिक कैलेंडर और परीक्षाओं से संबंधित छात्रों के मुद्दों को सुलझाने में सक्षम होगा।
  4. तेजी से निर्णय लेने के लिए यूजीसी में एक कोविड-19 सेल बनाया जाएगा।

दिशानिर्देश की मुख्य बातें इस प्रकार हैं:

Advertisement

दिशानिर्देश की प्रकृति सलाहकारी है

विश्वविद्यालय कोविड-19 महामारी से संबंधित मुद्दों को ध्यान में रखते हुए अपनी कार्ययोजना की रूपरेखा तैयार कर सकते हैं।

सोशल डिस्टेंसिंग सुनिश्चित करें।

परीक्षाएं

Advertisement

विश्वविद्यालय द्वारा कम समय में प्रक्रिया को पूरा करने के लिए परीक्षाओं के लिए वैकल्पिक, सरलीकृत प्रणालियां और तरीके अपनाये जा सकते हैं।

विश्वविद्यालय परीक्षा के समय को 3 घंटे से घटाकर 2 घंटे करके परीक्षाओं के लिए कुशल और नवीन तरीकों को अपना सकते हैं।

विश्वविद्यालय अपने अध्यादेशों/ नियमों और अधिनियमों, परीक्षाओं की योजनाओं, सामाजिक दूरी अपनाने के दिशा-निर्देशों का अवलोकन करते हुए, अपने पास उपलब्ध संगत प्रणाली को ध्यान में रखते हुए और सभी छात्रों के लिए उचित अवसर को सुनिश्चित करते हुए ऑफलाइन/ ऑनलाइन रूप में त्रैमासिक/ माध्यमिक/ वार्षिक परीक्षाएं आयोजित कर सकते हैं।

स्नातकोत्तर/ पूर्वस्नातक पाठ्यक्रमों/ कार्यक्रमों के लिए त्रैमासिक सेमेस्टर/ वार्षिक परीक्षाएं विश्वविद्यालयों द्वारा आयोजित की जा सकती हैं जैसा कि अकादमिक कैलेंडर में सुझाया गया है। विश्वविद्यालयों द्वारा परीक्षा के समय पर उचित विचार किया जा सकता है और “सामाजिक दूरी” के दिशा-निर्देशों को ध्यान में रखते हुए परीक्षाएं आयोजित की जा सकती हैं।

Advertisement

माध्यमिक सेमेस्टर/ वार्षिक छात्रों के लिए, विश्वविद्यालय अपनी तैयारियों का स्तर, छात्रों की आवासीय स्थिति, विभिन्न क्षेत्रों/ राज्यों पर कोविड-19 महामारी के फैलाव का व्यापक आकलन और अन्य कारकों की स्थिति का अवलोकन करने के बाद परीक्षाएं आयोजित कर सकते हैं।

अगर कोविड-19 के अनुसार स्थिति सामान्य नहीं दिखाई देती है, “सामाजिक दूरी” को बनाए रखने के लिए और छात्रों की सुरक्षा और स्वास्थ्य का ख्याल रखते हुए, विश्वविद्यालयों द्वारा छात्रों के लिए अपनाए गए आंतरिक मूल्यांकन पैटर्न के आधार पर 50 प्रतिशत अंकों की ग्रेडिंग दी जा सकती है और शेष 50 प्रतिशत अंक केवल पिछले सेमेस्टर में प्रदर्शन के आधार (अगर उपलब्ध है तो) पर दिए जा सकते हैं। यह आंतरिक मूल्यांकन, सतत मूल्यांकन, प्रीलिम्स, मिड-सेमेस्टर, आंतरिक मूल्यांकन या छात्र प्रगति के लिए जो भी नाम दिया गया हो, किया जा सकता है ।

उन स्थितियों में जहां पर पिछले सेमेस्टर या पिछले वर्ष के अंक उपलब्ध नहीं हैं, विशेष रूप से परीक्षाओं के वार्षिक पैटर्न के पहले वर्ष में, आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर 100% मूल्यांकन किया जा सकता है।

अगर छात्र अपनी ग्रेडिंग में सुधार करना चाहता है, तो वह अगले सेमेस्टर के दौरान ऐसे विषयों के लिए आयोजित विशेष परीक्षा में बैठ सकता है।

Advertisement

हालांकि, सभी हितधारकों की सुरक्षा और स्वास्थ्य को बनाए रखते हुए और परीक्षाओं की पवित्रता और गुणवत्ता बनाए रखते हुए, इंटरमीडिएट सेमेस्टर परीक्षाओं के लिए यह प्रावधान केवल चालू शैक्षणिक सत्र (2019-20) के लिए कोविड-19 महामारी को ध्यान में रखते हुए किये गए हैं।

लॉकडाउन की अवधि को सभी छात्रों/ शोध छात्रों द्वारा उपस्थित होने के रूप में’ माना जा सकता है।

परियोजनाओं/ शोध कार्यों में लगे हुए स्नातकोत्तर/ पूर्वस्नातक छात्रों की सुविधा के लिए उपयुक्त रणनीति अपनाएं। विश्वविद्यालय इन छात्रों के लिए प्रयोगशाला आधारित प्रयोगों या क्षेत्र/ सर्वेक्षण-आधारित कार्य देने के बजाय समीक्षा-आधारित/ माध्यमिक डेटा-आधारित परियोजना या सॉफ़्टवेयर-संचालित परियोजना पर विचार कर सकते हैं।

विश्वविद्यालय स्काइप या अन्य मीटिंग ऐप्स के माध्यम से व्यावहारिक परीक्षा और मौखिक परीक्षा आयोजित कर सकते हैं, और इंटरमीडिएट सेमेस्टर के मामले में, आगामी सेमेस्टर के दौरान व्यावहारिक परीक्षा आयोजित की जा सकती है।

Advertisement

विश्वविद्यालय गूगल, स्काइप, माइक्रोसॉफ्ट टेक्नोलॉजीज या किसी अन्य विश्वसनीय और परस्पर रूप से सुविधाजनक तकनीक का उपयोग करके वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से पीएचडी और एमफिल के छात्रों के लिए मौखिक परीक्षाओं का संचालन कर सकते हैं।

एमफिल या पीएचडी छात्रों को छह महीने का विस्तार दिया जा सकता है।

प्रत्येक विश्वविद्यालय कोविड-19 महामारी के दौरान परीक्षाओं और अकादमिक गतिविधियों से संबंधित छात्रों की शिकायतों का निपटारा करने के लिए एक प्रकोष्ठ स्थापित करेगा और उसके बारे में छात्रों को प्रभावी ढंग से सूचित करेगा।

यूजीसी द्वारा कोविड-19 महामारी के दौरान परीक्षाओं और अकादमिक गतिविधियों से संबंधित छात्रों की शिकायतों की निगरानी करने के लिए एक हेल्प लाइन जारी किया जाएगा।

Advertisement

शैक्षणिक कैलेंडर

शैक्षणिक सत्र 2019-20 के लिए निम्नलिखित कैलेंडर का सुझाव दिया जाता है:

शैक्षणिक कैलेंडर प्रकृति में सांकेतिक है। विश्वविद्यालय छात्रों की तैयारी के स्तर, आवासीय स्थिति,उनके नगर/क्षेत्र/राज्य में फैले कोविड-19 महामारी की स्थिति और अन्य कारकों का एक व्यापक आकलन करने के बाद इसे अपना/रूपांतरित कर सकते हैं।

सम सेमेस्टर का आरंभ 01.01.2020
 कक्षाओं का आस्थगन 16.03.2020
विभिन्न तरीकों जैसे आनलाइन लर्निंग/दूरस्थ शिक्षा/सोशल मीडिया (व्हाट्सअप/यूट्यूब)/ई-मेल/वीडियो कांफ्रेंसिंग/मोबाइल ऐप्स/डीटीएच पर स्वयंप्रभा चैनल आदि जैसे विभिन्न तरीकों के जरिये शिक्षण-अध्ययन की निरंतरता 16.03.2020 से 31.05.2020
शोध निबंध का समापन/प्रोजेक्ट वर्क/इंटर्नशिप रिपोर्ट/ई-लैब्स/ सिलेबस का समापन/ आंतरिक मूल्यांकन/एसाइनमेंट/ स्टूडेंट प्लेसमेंट ड्राइव आदि 01.06.2020 से 15.06.2020
ग्रीष्म अवकाश #                 16.06.2020 से 30.06.2020 
परीक्षाओं का संचालनटर्मिनल सेमेस्टर/ वर्षइंटरमीडिएट सेमेस्टर/वर्ष  01.07.2020 से 15.07.202016.07.2020 से 31.07.2020 
मूल्यांकन एवं परीक्षा का परिणामटर्मिनल सेमेस्टर/ वर्षइंटरमीडिएट सेमेस्टर/वर्ष   31.07.202014.08.2020 

# अगर ऐसी स्थिति आती है, तो विश्वविद्यालय 01.06.2020 से 30.06.2020 तक 30 दिनों का ग्रीष्म अवकाश कर सकते हैं। उस मामले में विभिन्न तरीकों से शिक्षण-अध्ययन 15.05.2020 तक रोका जा सकता है और उसके बाद शोध पत्र का समापन आदि को 16.05.2020 से 31.05.2020 तक पूरा किया जा सकता है।

Advertisement

2. शैक्षणिक सत्र 2020-21 पुराने छात्रों के लिए 01.08.2020 से और नए छात्रों के लिए 01.09.2020 से आरंभ किया जा सकता है।

शैक्षणिक सत्र 2020-21 के लिए निम्नलिखित कैलेंडर का सुझाव दिया जाता है

नामांकन प्रक्रिया 01.08.2020 से 31.08.2020 तक
कक्षाओं का आरंभदूसरे/तीसरे वर्ष के छात्रनया बैच (पहला सेमेस्टर/वर्ष)  01.08.2020 01.09.2020 
परीक्षाओं का संचालन 01.01.2021 से 25.01.2021 तक
सम सेमेस्टर के लिए कक्षाओं का आरंभ 27.01.2021
कक्षाओं का प्रसार 25.05.2021 
 परीक्षाओं का संचालन 26.05.2021 से 25.06.2021 तक
ग्रीष्म अवकाश 01.07.2021 से 30.07.2021 तक
अगले शैक्षणिक सत्र का आरंभ 02.08.2021 

कुछ सामान्य दिशानिर्देश

1.            विश्वविद्यालय 6 दिन के सप्ताह की पद्धति का अनुसरण कर सकते हैं

Advertisement

2.            छात्रों को लैबोरेट्ररी एसाइनमेंट/वर्चुअल लैबोरेट्ररी के जरिये प्रैक्टिकल एक्सपेरिमेंट, लैबोरेट्ररी वर्क के रिकार्डेड विजुअल्स को साझा करने एवं इस उद्वेश्य के लिए उपलब्ध डिजिटल रिसोर्सेज का एक्सपोजर दिया जा सकता है। 

3.            साईंस/इंजीनियरिंग/टेक्नोलाजी विषयों के छात्रों की सुविधा के लिए  वर्चुअल लैबोरेट्ररी के लिए मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा उपलब्ध कराए गए लिंक भी ऐसे उद्वेश्यों के लिए उपयुक्त हो सकते हैं।

4.            वर्चुअल क्लासरूम एवं वीडियो कांफ्रेंसिंग सुविधा का विकास करें और सभी शिक्षण कर्मचारियों को प्रौद्योगिकी के उपयोग का प्रशिक्षण दिया जाना चाहिए।

5.            विश्वविद्यालयों को ई-कंटेंट/ई-लैब एक्सपेरिमंट तैयार करना चाहिए और अपनी वेबसाइटों पर अपलोड करना चाहिए।

Advertisement

6.            मेंटर-मेंटी काउंसलिंग के तंत्र को सुदृढ़ बनाना चाहिए।

7.            विश्वविद्यालय को उस अवधि के लिए कर्मचारियों एवं छात्रों की यात्रा/ठहराव के इतिहास को रिकार्ड करने के लिए एक प्रोफार्मा बनाना चाहिए जब वे लाकडाउन के कारण विश्वविद्यालय से दूर थे।

8.            संकाय को आईसीटी एवं आनलाइन टीचिंग टूल्स के उपयोग के लिए पर्याप्त रूप से प्रशिक्षित किया जाना चाहिए जिससे कि वे आनलाइन शिक्षण के जरिये 25 प्रतिशत एवं आमने सामने के शिक्षण के जरिये 75 प्रतिशत सिलेबस को पूरा कर सकें।

नोट

Advertisement

वर्तमान परिदृश्य एवं भविष्य की अनिश्चितताओं को देखते हुए, विश्वविद्यालय छात्रों, शैक्षणिक संस्थानों एवं समस्त शिक्षा प्रणाली के सर्वोच्च हित में विशिष्ट स्थिति से निपटने के लिए बदलाव/परिवर्धन/संशोधन/रूपांतरण करने के जरिये पारदर्शी तरीके से इन दिशानिर्देशों को अपना सकते हैं/अनुकूल बना सकते हैं। अगर कानूनी रूप से मान्य हो तो विश्वविद्यालय नामांकन प्रक्रिया के वैकल्पिक तरीकों को अपना सकते हैं। ऐसे स्थानों पर स्थित शैक्षणिक संस्थानों जहां सरकार (केंद्र/राज्य) ने आम जनता के इकट्ठे होने पर प्रतिबंध लगा रखा है, संस्थान तदनुरूप योजना बना सकते हैं। किसी भी स्थिति में अनुशंसाएं उपयुक्त सरकार/सक्षम प्राधिकारी द्वारा जारी दिशानिर्देशों/निर्देशों पर किसी प्रतिबंध का कारण नहीं बनेंगी।

यूजीसी द्वारा गठित विशेषज्ञ समिति की अध्यक्षता यूजीसी के पूर्व सदस्य प्रो. आर.सी.कुहाद एवं हरियाणा केंद्रीय विश्वविद्यालय, महेंद्रगढ़, हरियाणा द्वारा की गई तथा शैक्षणिक नुकसान से बचने एवं छात्रों के भविष्य के लिए उपयुक्त उपाय करने के लिए परीक्षाओं एवं शैक्षणिक कैलेंडर से संबंधित मुद्वों पर विचार करने एवं अनुशंसा करने के लिए रिपोर्ट प्रस्तुत की गई।

Source: PIB

Advertisement

Leave a Comment